जिले में दो से 12 जनवरी तक चलेगा सघन टीबी रोगी खोजी अभियान

टीबी रोगी खोजने छह लाख की आबादी में घर-घर जाएंगे टीम के सदस्य . अभियान के लिए 220 टीम गठित, प्रत्येक पांच टीम पर एक सुपरवाइजर भी नामित . टीबी रोगी खोजने के लिए में मलिन बस्ती, मुसहर गाँव और अति गरीब आबादी में रहेगा जोर .

महराजगंज । राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम (एनटीईपी) के तहत जिले में दो से 12 जनवरी तक टीबी रोगी खोजी अभियान चलेगा। इसके लिए 220 टीम गठित की गयी हैं । प्रत्येक टीम में तीन-तीन सदस्य शामिल है। सभी को टीबी रोगी खोजने के लिए प्रशिक्षित किया जा चुका है। यह टीम छह लाख की आबादी में टीबी रोगी खोजेंगी। अभियान के दौरान मलिन बस्ती, उच्च जोखिम आबादी तथा मुसहर गाँव में विशेष फोकस रहेगा।

जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ.विवेक श्रीवास्तव ने राजकीय क्षय रोग केन्द्र में गुरूवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए यह जानकारी दी।उन्होंने जन सामान्य से अपील की है कि यदि टीम के लोग किसी के घर पहुंचे तो टीबी के लक्षण वाले व्यक्ति अपने रोग को छिपाएं नहीं, बल्कि लक्षणों के बारे में खुलकर बताएं। टीबी रोग की पुष्टि होने पर उनका समुचित इलाज होगा।

उन्होंने कहा कि “टीबी हारेगा, देश जीतेगा” थीम पर चलने वाले अभियान के दौरान टीम के लोग जन सामान्य को माइकिंग, पंपलेट, हाउस स्टीकर के माध्यम से भी टीबी से बचाव के लिए जागरूक करेंगे। टीबी रोगी के बारे में सूचना देने वाले व्यक्ति ( गैर वेतनभोगी) को 500 रूपए प्रोत्साहन स्वरूप दिए जाएंगे। इलाज के दौरान रोगी को भी प्रतिमाह 500 रूपए दिए जाएंगे। अभियान के तहत किसी व्यक्ति का बलगम ॠणात्मक मिलने पर उसका एक्स-रे कराया जाएगा तथा धनात्मक मिलने पर उसकी जांच सीबीनॉट मशीन से करायी जायेगी।

734 लोगों की हुई स्क्रीनिंग, 31 नमूने लिए गये

जिला क्षय रोग अधिकारी ने बताया कि 26 दिसंबर से वृद्धा आश्रम और जिला कारागार समेत पहले चरण के लिए चिन्हित आदि स्थानों के लोगों की स्क्रीनिंग की शुरू की गयी थी, जिसमें 30 दिसंबर तक कुल 734 लोगों की स्क्रीनिंग हुई, और इसमें से 31 लोगों के बलगम के नमूने लिए गए । मगर अभी तक कोई पॉजिटिव केस नहीं मिला है।

950 टीबी रोगियों का चल रहा इलाज

एनटीईपी के जिला कार्यक्रम समन्वयक हरिशंकर त्रिपाठी ने बताया कि जिले में वर्तमान में कुल 950 टीबी मरीजों का इलाज चल रहा है। बीते दो 2 से 11 नवंबर तक चले सक्रिय टीबी रोगी खोजी अभियान में कुल 138 नए टीबी रोगी मिले थे।

टीबी रोग से कैसे करें बचाव:

-परिवार के टीबी रोगी का इलाज शीघ्र कराएं ।
-टीबी रोगी खाँसते समय मुंह पर कपड़ा रखें ।
-टीबी रोगी एक बंद वर्तन में थूकें। उसे जला दें,या जमीन में गाड़ दें।
-सभी नवजात शिशुओं को बीसीजी का टीका अवश्य लगवाएं।

टीबी रोग के लक्षण

-14 दिनों से ज्यादा का बुखार
–14 दिनों सें खाँसी आना।
-सीने में दर्द रहना ।
-खाँसी के साथ मुंह से खून आना।
-भूख कम लगना।
-वजन का घटना।
-बच्चों में वजन का न बढ़ना।
-रात में पसीना आना।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button