सांप और विषैले जानवरों का बसेरा बना दसको पूर्व बना पशु चिकित्सालय,तड़प कर मर जाते हैं बेजुबान

महराजगंज। जनपद के सिसवा विकासखंड अंतर्गत ग्राम कररमही में अभिमन्यू पशु चिकित्सालय खंडहर का रूप धारण कर लिया है। जहां पशुओं के चिकित्सा के उद्देश्य से सन 1970- 72 में लाखों रुपए की लागत से निर्मित किया गया था किन्तु अब सुनसान व वीरान होने के कारण उपेक्षा की आंसू बहाते नजर आ रहा है । बताते चलें कि उक्त अस्पताल खंडहर का रूप धारण कर लिया है। जहां झाड़ झंकाड खरपतवार सांपों व विषैले जानवरों का बसेरा हो चुका है।
ग्रामीण राजेश चौधरी, सुरेश सिंह , प्रहलाद गौड , रोहित भारती ,मुकेश चौधरी, रामप्रीत आदि लोगों ने बताया कि उक्त अस्पताल में दशको पूर्व करीब 20 गांवों के पशुओं का चिकित्सा होता था जो अब घातक सिद्ध हो रहा है पशुओं को बीमारी होने के बाद सिसवा के अमडीहा अस्पताल ले जाया जाता है वहां भी हालात जस का तस पड़ा हुआ है बेजुबान इलाज के बगैर तड़प तड़प कर मर जाते हैं अनेकों बार शिकायत के बावजूद भी कोई ठोस आवश्यक कार्यवाही नहीं की जा रही है। आए दिन घातक बीमारियों से पशुए मौत के गाल में समा जाते हैं।
बताते चलें कि विकासखंड के करमही गांव में विकास नाम का चीज भी कुछ अजीब सा है जिसे जान कर आप भी हैरान हो जाएंगे ग्राम सभा में पंचायत भवन के नाम पर कुछ भी नहीं है,और ना ही सामुदायिक शौचालय ग्रामीणों ने बताया कि गांव में आने जाने वाली मार्ग भी पूर्णत: ध्वस्त हो गई है। वही गांव के ही रामकिशन व प्रहलाद ने बताया कि शौचालय बनाने के लिए गड्ढा खोदवाया गया था किंतु आज तक पैसा नहीं मिला जिस कारण गड्ढे को हम लोगों ने बंद कर दिया, आज भी सौच हेतू बाहर जाते हैं ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button