परिवार संग कोरोना को हराकर फिर सेवा में उतरे वीसीसीएम

पति-पत्नी के साथ दोनों बच्चे भी ही गए थे कोरोना पॉजिटिव

कोरोना प्रोटोकॉल का ठीक से किया पालन, फिर परिवार संग जीत ली कोरोना से लड़ाई

यूएनडीपी के जिला कोल्ड चेन मैनेजर सत्यप्रकाश द्विवेदी

कुशीनगर| खुद को बचाया, परिवार को बचाया, फिर जीत ली कोरोना से लड़ाई। अब कोरोना को हराकर पुनः स्वास्थ्य सेवा में जुट गए यूएनडीपी संस्था से जुड़े जिला के वैक्सीन कोल्ड चेन मैनेजर( वीसीसीएम) सत्यप्रकाश द्विवेदी। उनका कहना है कि कोरोना से डरने की नहीं बल्कि हौसला बुलंद कर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करने की जरूरत है, फिर आप जीतेंगे और कोरोना हारेगा।

सत्यप्रकाश द्विवेदी बताते हैं कि मई माह के पहले सप्ताह में वह सर्दी, जुकाम तथा गले में खरास से ग्रसित हो गए। गंध का भी पता नहीं चल पा रहा था। लक्षण को देखते हुए कोरोना जांच कराया, तो रिपोर्ट पाजिटिव आयी। यही दिक्कत पत्नी और दोनों बेटियों को भी महसूस होने लगी तो उनकी भी जांच करायी तो तीनों की भी रिपोर्ट पाजिटिव मिली।

इसके बाद चारों लोग होम क्वारंटीन में चले गए। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी व डिप्टी सीएमओ डॉ.संजय गुप्ता से मोबाइल के जरिये सलाह ली और कोरोना की दवाइयां लेनी शुरू कर दी। गर्म पानी पीना, काढ़ा पीना, व्यायाम करना, कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना दैनिक जीवन का हिस्सा बना लिया। हम चारों अलग अलग कमरे में रहने लगे। माॅस्क और सेनेटाइजर का नियमित प्रयोग किया।

करीब एक पखवाड़े तक न तो वह स्वयं और न ही उनका परिवार घर से बाहर नहीं निकले। घरेलू और अन्य आवश्यक सामग्री उनके पिता व भाई ही लाकर देते रहे। एक तरह से पिता और भाई केयर टेकर की भूमिका में रहे। किसी भी प्रकार की दिक्कत होने पर डिप्टी सीएमओ डॉ. संजय गुप्ता से मोबाइल के जरिये संपर्क करके दवा लेते रहे।

बकौल सत्यप्रकाश इतना ही नहीं वह होम क्वारंटीन के दौरान मोबाइल के जरिये कार्यालय का भी दायित्व संभालते रहे। उच्चाधिकारियों के निर्देशन में वैक्सीन की उपलब्धता, तापमान की ऑनलाइन मॉनिटरिंग और इलेक्ट्रॉनिक वैक्सीन इंटेलीजेंस नेटवर्क का काम भी देखते रहे। एक-एक दिन में 50 से अधिक काल अटेंड करते थे। धीरे-धीरे स्थिति सामान्य हो गयी।

करीब एक पखवाड़े तक होम आईसोलेशन में रह कर पूरी तरह सपरिवार स्वस्थ हो गए। अब वह अपने साथ परिवार को बचाकर पुनः स्वास्थ्य सेवा में जुट गए हैं । उनका मानना है कि कोरोना के केस भले ही कम हो गए हैं, मगर अभी सभी को सतर्क रहने की विशेष जरूरत है। कारण ही की बचाव ही कोरोना से बचने का बेहतर उपाय है। इसके लिए सभी को यह व्यवहार अपनाना होगा। कोविड का टीका जरूर लगवाना होगा।

-कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करें
-दो गज की दूरी बनाए रखें ।
-मॉस्क का प्रयोग करते रहें ।
-भीड़ भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचें।
-साबुन पानी से हाथ धोते रहें।
-सेनेटाइजर का प्रयोग करते रहें ।
-कोरोना के लक्षण दिखे तो तत्काल जांच कराएं।
-कोविड का टीका जरूर लगवाएं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button