हुई दूल्हे की पिटाई,पंचायत के बाद पुलिस ने लड़के को सौपा परिजनो के हवाले

धर्म बदल कर आया था ब्याह रचाने,काजी ने पढ़वाई आयतें तो खुली पोल

महाराजगंज। रविवार को जनपद के कोल्हुई थाना क्षेत्र में निकाह के दौरान मौलवी ने जब दूल्हे से आयतें पढ़ने को कहा तो दूल्हा अरबी लफ्जों का खास ढंग से उच्चारण नहीं कर पाया। इस पर जब लोगों को शक हुआ तो पूछताछ शुरू हुई। पूछताछ में दूल्हा हिन्दू धर्म का निकला। इसके बाद निकाह का मंडप अखाड़े मे तबदील हो गया। अपना धर्म छिपाकर युवती से मुस्लिम रीति-रिवाज से शादी करना लोगों को नागवार लगा। इस पर निकाह रोक दिया गया। लड़की पक्ष के लोगों ने दूल्हे की पिटाई शुरू कर दी। यह नजारा देख बाराती बन कर आए दूल्हे के दोस्त भागने लगे, लेकिन उनमें से जो पकड़ में आये उनकी घरातियों ने खूब मेहमान पिटाई की। फिर पुलिस बुलाकर उन्हें सुपुर्द कर दिया।

प्राप्त समाचार के अनुसार सोशल मीडिया पर सिद्धार्थनगर के एक युवक की महाराजगंज की एक लड़की से दो साल पहले दोस्ती हुई। दोनों के बीच में चैटिंग से बात आगे बढ़ने लगी। एक-दूसरे के प्रति भरोसा कायम होने के बाद दोनों ने अपना नंबर भी शेयर किया। एक-दूसरे से दोनों बातचीत करने लगे। युवक लड़की के घर भी आने-जाने लगा। दोनों की दोस्ती को लड़की के परिजनों ने भी अपनी रजामंदी दे दी। लड़की के परिजन नहीं जानते थे कि वह दूसरे मज़हब का है। इसी बीच युवक ने शादी का प्रस्ताव रखा। लड़की के परिजन तैयार हो गए।

सिद्धार्थनगर के युवक ने अपनी प्रेमिका के घर जाकर अपनी शादी खुद पक्की की। 13 जून को शादी की तारीख तय हुई। युवक ने कोरोना महामारी का हवाला देते हुए धूमधाम से बारात लेकर नहीं आने की बात कही थी। उसने कहा निकाह के दिन परिवार के कुछ खास करीबी ही आएंगे। इस पर लड़की के परिजन तैयार हो गए। निकाह के वक्त पोल खुलने के बाद कोल्हुई पुलिस ने युवक के पिता का मोबाइल नंबर लेकर उनसे बातचीत की। पूरी घटना की जानकारी दी। इस पर दूल्हे के पिता भौंचक्के रह गए। उन्होंने पुलिस को बताया कि उनको इस बात की कोई जानकारी ही नहीं है कि उनका बेटा बरात लेकर गया है। इस मामले को लेकर कोल्हुई थाने में पंचायत हुई। पूछताछ में यह मामला सामने आया कि युवक के धर्म के बारे में लड़की व उसकी मां को जानकारी हो गई थी।

लड़की के पिता इससे अनजान थे। सच उजागर होने के बाद पहले लड़की के पिता शादी के लिए तैयार नहीं हुए। बाद में लड़की ने किसी तरह उन्हें इस शादी के लिए राजी किया। लड़की के समझाने के बाद उसके परिजन शादी के लिए रजामंद हो गए, लेकिन दूल्हे के पिता ने शादी से इंकार कर दिया। उनका कहना था कि उनका बेटा धर्म बदल कर शादी करे उन्हें यह कतई गवारा नहीं। देर शाम तक पंचायत में कोई नतीजा नहीं निकला। युवक को पुलिस ने उसके पिता को सुपुर्द कर दिया। इस मामले में कोल्हुई थाना के एसओ दिलीप शुक्ला का कहना है कि लड़का व लड़की दोनों बालिग हैं। दोनों पक्ष थाने पर बुलाए गए थे। लड़के के पिता शादी के लिए तैयार नहीं हुए। लड़की के पिता का कहना था कि जब लड़के के परिजन तैयार नहीं हैं तो शादी कैसे कर दी जाए। प्रकरण में कोई तहरीर नहीं मिली थी। दूल्हे को उसके पिता को सुपुर्द कर दिया गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button