घर-घर जाकर लोगों को कोविड के प्रति जागरूक कर रहीं आशा कार्यकर्ता व संगिनी

लक्षण सहित बचाव के बता रहीं उपाय, तैयार हो रही है सूची

कुशीनगर । कोरोना के बढ़ते प्रसार को रोकने के लिए जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने पल्स पोलियो अभियान की तर्ज पर कोविड जागरूकता अभियान शुरू किया है। इस अभियान के तहत आशा कार्यकर्ता व आशा संगिनी घर-घर जाकर लोगों को कोविड के नए लक्षण को बताती हैं साथ ही बचाव के उपाय के बारे में भी लोगों को जागरूक कर रहीं हैं। इसी के साथ इनकी टीम कोविड लक्षण वाले लोगों को सूची भी तैयार कर रही है। कोविड जागरूकता अभियान के क्रम में तमकूही सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र से जुड़ी आशा संगिनी पूनम भारती भी अभियान के दौरान अपने दायित्वों का बखूबी निर्वहन कर रही हैं।

वह अभियान के दौरान आशा कार्यकर्ताओं के पर्यवेक्षण के साथ ही खुद लोगों को कोविड के लक्षणों के बारे में विस्तार से बताती हैं। उन्होंने ग्राम पंचायत लक्षिया देवरिया खास के ग्रामीणों को कोरोना के बढ़ते प्रसार को देखते हुए सजग और सतर्क रहने की सलाह दी। वहीं पर लोगों को कोविड का टीका लगवाने के लिए भी प्रेरित किया। उनका कहना है कि अब तो 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोग भी टीका लगवा सकते हैं। कोरोना से बचने के लिए टीकाकरण भी बेहद जरूरी है। बकौल पूनम भारती जब ग्राम लक्षिया देवरिया की आशा कार्यकर्ता रुक्मिणी देवी ने बताया कि गांव के कुछ लोग कोविड का टीका लगवाने से मना कर रहे हैं, तो उन्होंने रुक्मिणी के साथ गांव में जाकर लोगों से मिलकर टीका लगवाने के प्रति फैली भ्रांतियों को दूर करने का प्रयास किया। पूनम ने लोगों को बताया कि जब किसी को कोरोना का लक्षण महसूस हो तो वह तत्काल कोरोना जांच कराएं। कोरोना रिपोर्ट पाजिटिव आने के बाद भी घबराएं नहीं। सरकारी अस्पताल से इलाज कराएं। मरीजों का स्वास्थ्य विभाग फॉलोअप करेगा। नि:शुल्क दवा भी मिलेगी

कोविड के लक्षण:-

-बुखार आना।
-गले में खरास होना।
-खांसी आना।
-नाक बहना ।
-बदन में दर्द होना।
– सिरदर्द एवं थकान होना।
-पेट में ऐंठन होना।
-बार- बार दस्त होना।
-स्वाद या गंध न महसूस होना।

बचाव के उपाय:-

-सुमन-के विधि से हाथ धोना।
-मॉस्क का प्रयोग करना।
-सेनेटाइजर का प्रयोग करते रहना।
-बार-बार साबुन पानी से हाथ धुलना।
-भीड़ भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचना।
-कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना।
-दो गज की दूरी बनाकर रहना।
-खांसते छींकते समय नाक और मुँह को ढ़के रहना।
-हमेशा गरम पानी का सेवन करना।
– दिन में दो तीन बार भाप लेना।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button