विकास का मानक बनेगी अयोध्या: योगी आदित्यनाथ

त्रेतायुगीन वैभव के अनुरूप संवरेगी अयोध्या, धर्म-संस्कृति की परंपरा और आधुनिकता का होगा अद्भुत समन्वय

  • सीएम योगी का निर्देश, ‘सोलर सिटी’ के रूप में अयोध्या की पहचान के लिए बनाएं कार्ययोजना
  • अयोध्या के समेकित विकास परियोजनाओं की मुख्यमंत्री योगी ने की समीक्षा

लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने धर्मनगरी अयोध्या को उसके त्रेतायुगीन वैभव के अनुरूप संवारने का निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री योगी ने कहा है कि उत्तर प्रदेश सरकार अयोध्या को ऐसे नगर के रूप में विकसित करेगी, जहां धर्म-संस्कृति और अध्यात्म की परंपरा का निर्वाह भी होगा और आधुनिक नगर की सभी वैश्विक सुविधाएं भी होंगे। धार्मिक पर्यटन की असीम संभावनाओं से परिपूर्ण इस शहर को सुव्यवस्थित विकास का मानक बनाने के लिए प्रदेश सरकार हर आवश्यक कदम उठाएगी। मुख्यमंत्री ने अयोध्या को ‘सोलर सिटी’ के रूप में विकसित किये जाने की जरूरत बताते हुए इस संबंध में विस्तृत कार्ययोजना बनाने के निर्देश भी दिए।

सीएम योगी, शनिवार को लोकभवन में आयोजित एक उच्च स्तरीय बैठक में अयोध्या के समेकित विकास से जुड़ी परियोजनाओं की समीक्षा कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने अयोध्या की 84 कोसी परिक्रमा के परिक्षेत्र में आने वाले सभी धार्मिक स्थलों के आवश्यकतानुसार जीर्णोद्धार के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि नए भवन बनने हों या सड़कों का चौड़ीकरण अथवा विकास की अन्य कोई परियोजना, नागरिकों की सुविधा का पूरा ध्यान रखा जाए। भूमि अधिग्रहण की कार्यवाही तेजी से हो और यह ध्यान रखा जाए कि किसी भी नागरिक का हित प्रभावित न हो।

घाट बनें आकर्षण के केंद्र तो होगा रोजगार सृजन

सीएम योगी ने गुप्तार घाट क्षेत्र के सौंदर्यीकरण की कार्ययोजना पर चर्चा करते हुए कहा कि यहां श्रद्धालुओं की सुरक्षा और सुविधाओं का पूरा ध्यान रखा जाए। पर्यटन विभाग के अधिकारियों ने परिभ्रमण पथ पर बैठने के स्थान, रामायण के विभिन्न कांडों के लिए गजेबो, दीवारों पर पौराणिक गाथाओं का चित्रण, जॉगिंग ट्रैक, लेजर शो, जलपान गृह, पुजारियों के स्थान आदि की प्रस्तावित कार्ययोजना से अवगत कराया। मुख्यमंत्री ने गुप्तार घाट के प्रवेश मार्ग पर आगंतुकों की सुविधा के लिए प्रस्तावित पार्किंग को मल्टीलेवल कॉम्पलेक्स के रूप में विकसित करने के निर्देश दिए। घाट पर जेटी के निर्माण की संभावनाओं पर उन्होंने कहा कि सरयू में जल का प्रवाह तेज है, ऐसे में जेटी निर्माण से पूर्व विधिवत अध्ययन-परीक्षण कराया जाना चाहिए। सीएम योगी ने कहा कि घाट क्षेत्र में सतत विकास पर्यटकों के लिए आकर्षण भी बढ़ाएगा और स्थानीय स्तर पर रोजगार का सृजन भी होगा। सीएम ने रामचंद्र दास परमहंस के समाधि स्थल, मखौड़ाधाम और श्मशान घाट मुक्तिधाम के विकास सम्बन्धी कार्यों को शीघ्रता से पूर्ण करने के निर्देश दिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button