सेहत को लेकर खास सतर्क रहें उच्च जोखिम वाली गर्भवती : -डाॅ. सिंह

पीएमएसएमए दिवस पर हुई गर्भवती की जांच ,सदर सीएचसी पर आयीं 76 गर्भवती में से 4 मिलीं उच्च जोखिम गर्भावस्था वाली

महराजगंज । प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस (पीएमएसएमए) दिवस पर शुक्रवार को जिला अस्पताल सहित 14 स्वास्थ्य केन्द्रों अस्पतालों पर गर्भवती की प्रसव पूर्व जांच हुई और जरूरी टीका लगाया गया। सदर सीएचसी पर गर्भवती की जांच के दौरान महिला अधीक्षक डॉ. केपी सिंह ने बताया कि स्वस्थ माँ ही स्वस्थ बच्चे को जन्म दे सकती है। ऐसे में सभी गर्भवती अपने सेहत के प्रति को लेकर सचेत रहें। खास तौर पर उच्च जोखिम गर्भावस्था वाली महिलाओं को विशेष तौर पर सतर्क रहना होगा।

डॉ. सिंह ने कहा कि गर्भ धारण होने का पता चलते ही नजदीक के स्वास्थ्य केन्द्र पर अपना पंजीकरण कराएं। सभी गर्भवती गर्भावस्था में कम से कम चार बार जांच जरूर कराएं, क्योंकि क्योकि जब माँ स्वस्थ रहेगी तो वह स्वस्थ बच्चे को जन्म देगी। सदर सीएचसी पर पहुँचने वाली गर्भवती की कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए खून, पेशाब, रक्तचाप, वजन, पेट एवं कोरोना आदि की जांच की गयी । उच्च जोखिम गर्भावस्था (एचआरपी) वाली महिलाओं को खानपान सही रखने की भी सलाह दी गयी। महिला चिकित्सक डॉ. प्रज्ञा राव ने जांच के दौरान आयरन व कैल्शियम की गोली तथा खानपान सही रखने के बारे में सलाह दी।

उन्होंने कहा कि गर्भावस्था के दौरान अतिरिक्त भोजन जरूरी है। दूध, पनीर,ताजा मौसमी फल, दाल, हरी सब्जियां एवं अन्य प्रोटीन व विटामिन युक्त आहार लें। सदर सीएचसी पर कुल 76 गर्भवती की जांच हुई, जिसमें 4 गर्भवती उच्च जोखिम गर्भावस्था वाली मिलीं स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी श्रीभागवत ने कहा कि सभी गर्भवती को साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने, मॉस्क लगाने, दो गज की दूरी बनाकर रहने और भीड़ भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचने के लिए प्रेरित किया गया । उन्होंने जांच कराने आयी महिलाओं की कोरोना जाँच भी कराने के लिए कहा।

पीएमएसएमए दिवस पर पहली बार आशा कार्यकर्ता शीला देवी के साथ जांच कराने सदर सीएचसी पर आयी ग्राम पंचायत कृतपिपरा निवासीनी प्रियंका ने बताया कि उसकी खून पेशाब, सुगर, एचआईवी की जांच हुई और दवा भी मिली। खानपान सही रखने के साथ विशेष सावधानी बरतने के लिए कहा गया। ग्राम पंचायत गबड़ुआ निवासीनी रीना गुप्ता ने बताया कि वह काम करने के बाद थकावट महसूस करती हैं। आशा कार्यकर्ता के कहने पर अकेले ही जांच कराने सदर अस्पताल आयी हूँ। दवा के साथ आवश्यक सलाह भी मिली।

गर्भवती कब-कब कराएं जांच

-पहली जांच माहवारी छूटने के तीन माह के भीतर
-दूसरी जांच गर्भावस्था के चौथे व छठें महीने में
-तीसरी जांच गर्भावस्था के सातवें से आठवें महीने में
-चौथी जांच गर्भावस्था के नौवें महीने में

क्या है पीएमएसएमए

प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान गर्भवती की प्रसव पूर्व देखभाल की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए शुरू किया गया कार्यक्रम है । इस अभियान के तहत लाभार्थियों की हर माह के नौ तारीख को प्रसव पूर्व निःशुल्क देखभाल ( जांच और दवाओं) की सुविधा प्रदान की जाती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button