निगरानी समिति के क्रियान्वयन से जिले से खत्म कर देंगे कोरोना : डॉ उज्जवल कुमार

यूपीडीएफ जिले में बना रही हैं आक्सीमीटर बैंक : सीए पंकज जायसवाल . हैप्पी हाईपोक्सिया से बचें ग्रामीण : डॉ राम .स्मार्टगांव जिले के एक गांव को बनाएगी स्मार्ट : रजनीश बाजपेयी .

महराजगंज : निगरानी समिति के क्रियान्वयन से जिले से खत्म कर देंगे कोरोना ऐसा कहना था महाराजगंज जिले के जिलाधिकारी डॉ उज्जवल कुमार का और मौका था उत्तर प्रदेश डेवलपमेंट फोरम (यूपीडीएफ) द्वारा आयोजित “महराजगंज जनपद में “निगरानी समिति”, “ट्रेस टेस्ट एवं ट्रीट” योजना एवं कोरोना प्रबंधन” विषय पर आयोजित वेबिनार का । यूपीडीएफ द्वारा आयोजित इस वेबिनार में जिले के नागरिकों के अलावा स्वयंसेवी संस्था ठूठीबारी विकास मंच, उम्मीद फाउंडेशन, अमेरिका से स्मार्टगांव फाउंडेशन संस्थाएं भी जुडी थी ।

इस वेबिनार में जिलाधिकारी डॉ उज्जवल कुमार ने बताया की कोरोना के शुरुवात से ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश पर जिले में निगरानी समितियों का गठन किया जा चुका है जिसमें मुख्य रूप से ग्राम प्रधान, सचिव, लेखपाल, कोटेदार, आशा वर्कर, सफाई कर्मी और स्थानीय संभ्रांत लोगों को जोड़ कर एक कमिटी बनाई गई है जिन्हें आक्सिमीटर और थर्मामीटर उपलब्ध कराया गया है जिनका काम गांव में प्रत्येक जरुरतमंदों की नियमित ऑक्सीजन पल्स और तापमान की जांच करना है और किसी संभावित को अगर कोरोना के लक्षणा उभरे तो उन्हें तुरंन्त रैपिड रिस्पांस टीम से जोड़ना है ताकि उनका तत्काल इलाज शुरू हो सके, सरकार की तरफ से मेडिकल किट के अतिरिक्त डॉक्टर,लैब तकनीशियन और एक प्रशासनिक अधिकारी की विजिट और प्रति कोरोना ग्रसित व्यक्ति की निगरानी कराई जा सके ।

स्वीडन से जुड़े विश्व प्रसिद्द वैज्ञानिक डॉ राम उपाध्याय ने बताया की ग्रामीण अंचल के युवा हैप्पी हाईपोक्सिया के शिकार हो रहें हैं और उन्हें पता ही नहीं चल रहा है. हैप्पी हाईपोक्सिया होने पर कई बार ऊपर से देखने पर मरीज स्वस्थ दीखता है लेकिन अन्दर ही अन्दर ऑक्सीजन गिरता जाता है और कई बार 85 से नीचे चला जाता है जिससे फेफड़े के अलावा उनके कई महत्वपूर्ण अंग भी ऑक्सीजन की कमी से ख़राब होते चले जाते हैं और जब अचानक से उन्हें पता चलता है तब तक देर हो चुकी होती है. निगरानी समिति और यूपीडीएफ के आक्सिमीटर बैंक के माध्यम से यदि यह नियमित ऑक्सीजन स्तर जांच करते रहे और 95 से नीचे जाने पर सतर्क हो जाए और 90 से नीचे जाने पर अस्पताल में भर्ती हो जाएँ तो लोग स्वस्थ भी होंगे, मृत्यु भी नहीं होगी और अस्पताल पर दबाब भी कम होगा ।

कार्यक्रम के संयोजक एवं उत्तर प्रदेश डेवलपमेंट फोरम के अन्तराष्ट्रीय महासचिव सीए पंकज जायसवाल ने मुख्यमंत्री के आदेश पर गठित निगरानी समिति के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए जिलाधिकारी से सूबे के मुख्यमंत्री की तर्ज पर उपजिलाधिकारी, बीडीओ, एवं चेयरमैन को मिला एक टीम का गठन करने का निवेदन किया और इस टीम का मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी के ही तर्ज पर प्रतिदिन बैठक कर फीडबैक और प्रगति रिपोर्ट लेने को कहा ताकि निगरानी समिति को प्रभावी तरीके से क्रियाशील किया जा सके. सीए पंकज ने बताया की फोरम की योजना है की आक्सीमीटर बैंक की स्थापना से ऑक्सीजन की कमी को शुरु में ही पकड़ प्रारंभिक इलाज दे दिया जाय ताकि लोगों को ऑक्सीजन या अस्पताल जाने की जरुरत ही ना पड़े ।

यूपीडीएफ के जिलाध्यक्ष अमित अंजन ने बताया जिले के 3 कस्बों समेत 36 गाँवों में आक्सिमीटर-थर्मामीटर बैंक बनाया गया है, जिसके माध्यम से गांव और क़स्बे में कोरोना संभावित व्यक्ति अपना ऑक्सीजन पल्स तापमान का चार्ट प्रतिदिन का निर्माण करेंगे और फोरम की टीम उन्हें चार्ट बनाने में भी गाइड करेगी । प्रवासियों के माध्यम से उत्तर प्रदेश के गांवों में पहुँचने के लिए यूपीडीएफ और अमेरिका स्थित भारतीय प्रवासियों की संस्था स्मार्टगांव फाउंडेशन मिलकर काम कर रही है, महाराजगंज का पायलट प्रोजेक्ट के बाद यूपीडीएफ और स्मार्टगांव प्रदेश के अन्य जिलों में भी स्थानीय सहयोगी संस्थाओं एवं युवाओं के माध्यम से आक्सिमीटर-थर्मामीटर बैंक विस्तार का काम करेगी . अमेरिका से वेबिनार में जुड़े स्मार्टगांव के संस्थापक रजनीश बाजपेयी ने वेबिनार में घोषणा किया की यूपीडीएफ और प्रशासन के साथ मिल स्मार्टगांव की टीम महाराजगंज के एक जिले को स्मार्टगांव बनाएगी और आज यूपीडीएफ के साथ मिल जिले के 25 गांवो में आक्सिमीटर बैंक बनाने पर काम कर रही है ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button