लगातार हो रही बारिश से धान का बेहन सड़ने से किसान चिंतित

कैसे होगी धान की रोपाई जब धान का बेहन ही नहीं है।

महराजगंज। जनपद में हो रही लगातार बारिश से किसानों के माथे पर चिंता की लकीर खिंची हुई नजर आ रही है।किसान अपने धान की बेहन को लेकर काफी चिंतित हैं कि कैसे इस बार हम अपने खेतों में धान की रोपाई करेंगे।इस बार धान की रोपाई न होने से हम सभी के अरमानों पर पानी फिर जायेगा।वहीँ दूसरी तरफ धान के बेहन की चोरी को लेकर किसान चिंतित हैं कि खेत से ही रात्रि में धान का बेहन चोर काटकर उठा ले जा रहे हैं।और कहीं कही ये भी सुनने को मिल रहा है कि किसान धान का बेहन कटवाकर रोपाई के अपने दरवाजे पर रख रहे कि सुबह में हम अपने खेत की रोपाई करेंगे तब तक रात्रि में चोर उठा ले जा रहे हैं।

अबकी बार लगातार वारिस से धान का बेहन अच्छा नहीं रहा और जो अच्छा भी रहा तो पानी में डुबकर समाप्त हो गया है।और अब बेहन डालने में रोपाई के लिए देरी होगी, जिस किसान के पास बीज है उनकी रोपाई हो रही है जिनके पास नहीं है तो तीन से चार सौ रुपए में खरीद कर रोपाई करा ले रहे हैं और जिनके पास ना तो पैसा है ना तो कहीं पर पैसे से धान का बेहन मिल रहा है तो वो किसान अपने खेत में झंडी लगा दिये है जो पिछले वर्ष का धान कटाई करते वक्त गिर गया और खेत की जुताई नहीं हो पाया और वही खेत में उगा हुआ है जिसे लोग झरगा के नाम से जानते हैं।

जो समय से पहले पक जाता है और यदि कटाई में लापारवाही हुई तो वह भी मिलने की उम्मीद नहीं है। फिर भी बीज ना होने के कारण अबकी बार झरगे का ही सहारा दिख रहा है और कुछ किसानों को यह भी आशा नहीं है क्योंकि उनका खेत काफी गहरा है और पानी से लबालब भरा हुआ है अबकी बार किसान बहुत ही चिन्ता में है धान की बीज बहुत ही महंगा खरीद कर डाले हुए हैं वह गल गया।अब आगे प्रकृति क्या करती है कैसा समय होगा। वहीँ आजाद नगर निवासी राम सेवक साहू के घर के ठीक सामने मजीद अपने धान के बेहन को बचाने के लिए पम्पिंगसेट से लगातार तीन दिन से खेत से पानी निकाल रहे हैं ।

लगातार बारिश होने से खेत में पानी भर जा रहा है बार बार पानी निकालना पड रहा है।वह अभी तक अपने धान के बेहन को बचाने के चक्कर में लगभग ढाई हजार का डीज़ल जला चुके हैं और आगे अभी कितना जलेगा कुछ कहा नही जा सकता है इसके बावजूद धान का बेहन बच पायेगा कि नही।लगातार हो रही बारिश से किसानों की समस्या को देखते हुए शासन को किसानो की इस आपदा के समय में आर्थिक मदद करे ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button