कृषि विधेयक खेती को रसातल में पहुंचा देगा – राजेश

महाराजगंज। जिस तरह नोटबंदी ने देश की अर्थव्यवस्था का बेड़ा गर्क किया और जीएसटी ने छोटे व्यापारियों की नाक में दम कर दिया, ठीक उसी प्रकार केंद्र सरकार द्वारा जबरदस्ती पारित कृषि विधेयक,देश के किसानों और उनकी खेती को रसातल में पहुंचा देगा।
समाजवादी पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष राजेश यादव ने आज यहां जारी अपनी प्रेस विज्ञप्ति में उक्त आशंका व्यक्त करते हुए कहा कि भाजपा के 6 वर्षीय शासनकाल में उनकी कार्य वृत्ति से यही स्पष्ट होता है कि भाजपा के हुक्मरान जो कहते हैं उसका परिणाम उनके कथन के ठीक उलट होता है।श्री यादव ने उदाहरण देते हुए कहा कि चुनाव में भाजपा की ओर से बड़े जोर शोर के साथ नारा उछाला गया था “महंगाई ना भ्रष्टाचार हम देंगे अच्छी सरकार”भोली भाली जनता ने उनकी अच्छी सरकार तो बनवा दिया, लेकिन हुआ क्या महंगाई और भ्रष्टाचार दोनों ही सुरसा के मुंह की तरह बढ़े तो बढ़ते ही चले गए, ऊपर से हत्या बलात्कार लूट और बैंक घोटालों की सौगात घलुआ में जनता के पल्ले पड़ गई ।
पूर्व जिलाध्यक्ष ने कहा कि पूजी पतियों की कठपुतली सरकार के आंख की किरकिरी 86% किसानों की जमीन बन गई है, इसे उनसे छीन कर भाजपा अपनी पूंजीपति आकाओं की झोली में डाल देना चाहती है। और यह काम बिना कानून बनाए संभव नहीं था,इसलिए केंद्र सरकार ने विपक्ष को विश्वास में लिए बिना ही कृषि विधेयक जैसे काले कानून को सत्ता के जुनून में जबरिया पास करा लिया
श्री यादव ने केंद्रीय खाद्य एवं प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर को बधाई देते हुए कहा कि मंत्री पद का मोह छोड़कर उन्होंने इस काले कानून के विरुद्ध जो कदम उठाया वहीं भाजपा सरकार की पोल खोलने के लिए काफी है।और चूंकि यह कृषि प्रधान राज्य से आती हैं इसलिए उनका विरोध जायज भी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button