“बुजुर्गों से अपनत्व दिखाएँ, भूलने की बीमारी से बचाएं- डाॅ. एके राय”

विश्व अल्जाइमर्स दिवस के अवसर पर गोष्ठी का आयोजन - जितनी जल्दी पता चल जाए बीमारी का उतनी ही जल्दी दूर की जा सकती है बुढ़ापे की बड़ी समस्या .

महराजगंज । जिला अस्पताल में विश्व एल्जाइमर्स दिवस पर मुख्य चिकित्सा अधीक्षक कार्यालय कक्ष में सोमवारो को गोष्ठी आयोजित की गयी। गोष्ठी में मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डाॅ. एके राय ने कहा कि बुजुर्गों के प्रति अपनापन दिखा कर उन्हें भुलने की बीमारी से बचाया जा सकता है। उन्होंने कहा मानसिक रोगियों के काउंसिलिंग के लिए जिला अस्पताल में मनकक्ष की व्यवस्था की गयी है, जहाँ पर काउंसिलिंग से लेकर इलाज तक की व्यवस्था होती है। समय-समय पर सेवा दिवस आयोजित कर भी बुजुर्गों की मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ीं समस्याओं का समाधान किया जाता है। जितनी जल्दी इस बीमारी का पता चल जाए उतना जल्दी निदान हो जाएगा।
डाॅ. आरपी राय ने कहा कि रोजमर्रा की चीजों को भूल जाना, व्यवहार में परिवर्तन आना, रोज घटने वाली घटनाओं को भूल जाना, दैनिक कार्य न कर पाना आदि इस बीमारी के प्रमुख लक्षण हैं । इसके चलते बातचीत करने में दिक्कत आती है या किसी भी विषय में प्रतिक्रिया देने में विलम्ब होता है ।
उन्होंने कहा कि डायबिटीज, उच्च रक्तचाप, हाई कोलेस्ट्रोल, सिर की चोट, ब्रेन स्ट्रोक, एनीमिया और कुपोषण के अलावा नशे की लत होने के चलते भी इस बीमारी के चपेट में आने की सम्भावना रहती है ।  वरिष्ठ चिकित्सक डाॅ. एवी त्रिपाठी ने कहा कि भूलने की बीमारी पर नियंत्रण पाने के लिए जरूरी है कि शारीरिक रूप से स्वस्थ रहने के साथ ही मानसिक रूप से अपने को स्वस्थ रखें । नकारात्मक विचारों को मन पर प्रभावी न होने दें और सकारात्मक विचारों से मन को प्रसन्न बनाएं। पसंद का संगीत सुनने, गाना गाने, खाना बनाने, बागवानी करने, खेलकूद आदि जिसमें सबसे अधिक रुचि हो, उसमें मन लगायें तो यह बीमारी नहीं घेर सकती। डाॅ. जी चंद्रा ने कहा कि नियमित रूप से व्यायाम और योगा को अपनाकर इससे बचा जा सकता है। दिनचर्या को नियमित रखें क्योंकि अनियमित दिनचर्या इस बीमारी को बढ़ाती है। धूम्रपान और शराब से पूरी तरह से दूरी बनाना ही हित में रहेगा । यदि डायबिटीज या कोलेस्ट्रोल जैसी बीमारी है तो उसको नियंत्रित रखने की कोशिश करें । गोष्ठी में डाॅ.डीके सिंह, डाॅ.केके चौधरी, महमूद, अरविंद मद्धेशिया, सत्येन्द्र प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

फोन मिलाएं – समस्या का समाधान पाएं :

गोष्ठी में बताया गया कि अगर आप मानसिक तनाव या चिंता महसूस कर रहे हैं तो राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य और स्नायु विज्ञान संस्थान के टोल फ्री नंबर- 080-46110007 पर कॉल करके मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी हर समस्या का समाधान पा सकते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button